मराठी कविता संग्रह

तुम बिन ….

14:54 Sujit Balwadkar 0 Comments Category : ,

हर ख़ुशी अधुरी सी
हर लम्हा खाली सा
हर बात आधी सी
लगती है तुम बिन …²

जिंदगी मे तुम शामिल हो इस कदर
दिल कि हर धडकन प्यासी
आती जाती हर सांस आधी
बदन के साथ लीपटी परछाई
लगती है जैसे पराई
तुम बिन …²

दूर होकर भी छाये हो मेरी जिंदगी मे ऐसे
सुरज पर छाता है चांद जैसे
हर सांस घुटती है
हर लम्हा बोझ लगता है
जिंदगी मे एक विराणी
छीपी है जैसे
तुम बिन …²

मर भी नही सकते है तुम बिन,
मगर जिये भी तो कैसे बताओ
तुम बिन …²
तुम बिन …²


- विनिता पिसाळ

आपल्या येण्याची जाणीव आम्हाला प्रतिक्रियांद्वारे करून द्या. आपली प्रतिक्रिया इथे जरूर नोंदवा.

अपडेट्स मिळवण्यासाठी ह्या URL वर टिचकी मारा किंवा हा URL वरील URL bar मध्ये paste करा - http://feedburner.google.com/fb/a/mailverify?uri=wordpress/fQXr

RELATED POSTS

0 अभिप्राय